आम भारत का राष्ट्रीय फल है . भारत में इस फल को यानि आम को फलों का राजा कहा जाता है. यह फल सबसे पहले केवल भारतीय महाद्वीप में ही पाया जाता था. बादमे धीरे धीरे इसका उत्पादन अन्य राष्ट्र में भी किया गया . भारत के साथ साथ फिलिपिंस और पाकिस्तान में भी आम को राष्ट्रीय फल माना गया है. और बांग्लादेश में आम के पेड़ को राष्ट्रीय पेड़ माना गया है. संस्कृत भाषा में आम का नाम आम्र है.

आइये तो आज हम आम के कुछ प्रकार , आम की किस्में , आम के फ़ायदे और आम की कुछ बनावट के बारे में जानकारियां जानेंगे :-

♦  आम की कुछ रोचक जानकारियां :- 

  • पूरी दुनिया आम का सबसे अधिक उत्पादन भारत में किया जाता है. उसके बाद चीन और थाईलैंड का क्रमांक आता है.
  • भारत द्वारा किये गए आम के उत्पादन में 50 % आम अन्य राष्ट्रों  में एक्सपोर्ट किया जाता है.
  • भारत के मुख्य आंध्रप्रदेश , कर्नाटका, गुजरात, महाराष्ट्र ,बिहार , और ओरिस्सा में आम का उत्पादन किया जाता है.

♦ आम खाने के फ़ायदे :- 

  • आम खाने के कई फ़ायदे है. आयुर्वेद में भी आम का खास महत्व है .
  • आम का फल शरीर के वात, पित और कफ़ नियंत्रण के लिए काफ़ी लाभदायी है.
  • गर्मी से बचने के लिए भी आम खाना लाभदायी होता है.
  • गर्मी के दिनों में कच्चा आम और प्याज का सलाड खाने से शरीर को लू नहीं लगती है .
  • आम खाने से पाचन शक्ति तथा रोग प्रतिकारक शक्ति बढ़ती है .
  • आम खाना बच्चो के लिए भी लाभदायी है क्योंकि इससे स्मरण शक्ति भी उतनी ही बढ़ती है .
  • आँख और त्वचा के लिए भी आम लाभदायी है .
  • आम खाने से कोलेस्ट्रोल भी  नियंत्रण में रहता है .

♦  आम की किस्में , आम के प्रकार :- 

वैसे देखा जाए तो आम की कई अनेक प्रजातियाँ है , जो 1400 से भी अधिक है. तो हम आम की कुछ खास और मुख्य प्रजातियाँ के बारे में जानेंगे :-

1) Alphonso Mango – Maharashtra ( हाफूस आम – महाराष्ट्र ) :-  

  • हाफूस आम सबसे प्रिय आम कहा जाता हे. यह सबसे मीठा रसीला और स्वाद में सबसे अच्छा लगता है.
  • यह आम की सबसे अच्छी प्रजाति में से एक है. और यह अक्सर अप्रैलः से जून तक पाया जाता है.
  • हाफूस आम की सबसे अच्छी किस्में महाराष्ट्र की प्रसिद्द है.
  • हाफूस का सबसे अधिक और बेहतरीन उत्पादन महाराष्ट्र के कोकण इलाके में सिंधुदुर्ग जिल्ले के देवगढ़ में होता है. साथ ही महाराष्ट्र के रत्नागिरी के हाफूस आम भी काफ़ी प्रसिद्ध है.
  • हाफूस आम का कुछ उत्पादन दक्षिण गुजरात के वलसाड और नवसारी इलाक़े में भी होता है.

2) Langada – Uttarpradesh ( लंगड़ा – उत्तरप्रदेश ):-

    • भारत में लंगड़ा आम का सबसे अधिक उत्पादन उत्तरप्रदेश के वाराणसी में होता है . और वाराणसी का लंगड़ा आम भारत के साथ साथ विदेश में भी काफ़ी प्रसिद्ध है.
    • इसका आकर अंडे की तरह होता है.
    • यह अक्सर जुलाई-अगस्त में पाए जाते है.
    • इसका रंग हरा-तथा -पिला कलर का होता है और इसमें रेशे अधिक मात्रा में होते है.

3) Totapuri – Karnataka ( तोतापुरी – कर्नाटका ) :-

  • यह आम Banglora , Sandersha जैसे नाम से भी जाना जाता है.
  • इसका आकार तोते की चोच की तरह होता है. इसीलिए इसे तोतापुरी नाम दिया गया है.
  • स्वाद में यह ज्यादा मीठा नहीं होता है. इसीलिए इसका उपयोग आचार और सलाड बनाने में ज्यादा होता है .
  •  भारत में इसका सबसे अधिक उत्पादन कर्नाटका में होता है. और कर्नाटका के तोतापुरी आम भी काफ़ी प्रसिद्द है .

4) Chaunsa – Himachal pradesh ( चौसा – हिमाचल प्रदेश ):-

  • चौसा आम सामान्य आमरस बनाने के लिए काफ़ी प्रसिद्द है .
  • इसका सबसे अधिक उत्पादन हाल के पाकिस्तान में होता है.
  • यह स्वाद में मीठा तथा रसीला होता है .

5) Dasheri – Uttar pradesh ( दशेरी – उत्तरप्रदेश ):-

  • इस आम का सबसे अधिक उत्पादन भारत के उत्तरप्रदेश में लखनऊ के मलीहाबाद में होता है .
  • यह स्वाद में सबसे अधिक मीठा होता है .
  • यह आम भरत के उत्तरप्रदेश राज्य मै सबसे अधिक लोकप्रिय है.

6) Kesar – Gujrat ( Kesar – गुजरात ):- 

  • केसर आम का सबसे अधिक उत्पादन गुजरात राज्य के जूनागढ़ में गिर के जंगलो मै होता है.
  • यह आम सामान्य नारंगी कलर का होता है , नारंगी कलर को गुजराती में केसरी कहा जाता है , इसीलिए इसे केसर नाम दिया गया .
  • केसर आम सबसे प्रसिद्द गुजरात के ही माने जाते है .
  • इसका स्वाद मीठा और स्वादिष्ट होता है .

7) Himsagar – West Bengal ( हिमसागर – वेस्ट बंगाल ) :-

  • इस आम की सबसे अधिक खेती पश्चिम-बंगाल में होती है .
  • इसका रंग ऊपर से हरा कलर का होता है किंतु यह आम अंदर से पिला कलर का होता है .
  • ख़ासतौर पर इसका इस्तमाल जूस और मिस्टान बनाने के लिए किया जाता है.

8 ) Banganapalli – ( बंगनपल्ली – आँध्रप्रदेश ) :-

  • इस आम की सबसे अधिक खेती आँध्रप्रदेश में होती है.
  • यह आम पीले कलर का होता है और इसके छिलके भी काफ़ी पतले होते है .
  • यह आम स्वाद में खट्टा – मीठा होता है.
  • खास तौर पर इस आम का उपयोग संग्रह करने के लिए किया जाता है .